भारतीय न्याय संहिता 94 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 94 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 94 in Hindi – BNS 94 in Hindi

शिशु का उपापन- जो कोई अठारह वर्ष से कम आयु की शिशु को अन्य व्यक्ति से अयुक्त संभोग करने के लिए विवश या विलुब्ध करने के आशय से या तद्द्द्वारा विवश या विलुब्ध किया जाएगा यह सम्भाव्य जानते हुए ऐसी लड़की को किसी स्थान से जाने को या कोई कार्य करने को किसी भी साधन द्वारा उत्प्रेरित करेगा, वह कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा।

Bharatiya Nyaya Sanhita 94 in English – BNS 94 in English

Procuration of child- Whoever, by any means whatsoever, induces any child below the age of eighteen years to go from any place or to do any act with intent that such child below the age of eighteen years may be, or knowing that it is likely that such child will be, forced or seduced to illicit intercourse with another person shall be punishable with imprisonment which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

Rate this post
See also  भारतीय न्याय संहिता 12 क्या है? - Bharatiya Nyaya Sanhita 12 in Hindi & English
Share on:

Leave a comment