IPC 141 in Hindi- गैरकानूनी जमावड़ा (विधिविरुद्ध जमाव) की धारा 141 में सजा, जमानत और बचाव

IPC 141 in Hindi:- दोस्तों, क्या आप जानते है? की अगर पांच या पांच से ज्यादा लोग गैरकानूनी रूप से कहीं जमा है। तो क्या हमारे भारतीय कानून में इसकी कोई सजा का प्रावधान है? जी हाँ, ये भी एक जुर्म है। आज हम गैर-कानूनी विधानसभा (विधि-विरुद्ध जमाव) की धारा 141 पर चर्चा करने वाले हैं, और साथ में ये जानेंगे की इस धारा को कब और किन-किन अपराध में लगाया जाता है? तो इस लेख में अंत तक बने रहे।

IPC 141 in Hindi
IPC Section 141 in Hindi

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 141 क्या होती है?

 

विधिविरुद्ध जमाव:- “पांच या अधिक व्यक्तियों का जमाव “विधिविरुद्ध जमाव” कहा जाता है, यदि उन व्यक्तियों का, जिनसे वह जमाव गठित हुआ है, सामान्य उद्देश्य हो -”

पहला –“केन्द्रीय सरकार को, या किसी राज्य सरकार को, या संसद को या किसी राज्य के विधान मण्डल, को या किसी लोक-सेवक को, जबकि वह ऐसे लोक-सेवक की विधिपूर्ण शक्ति का प्रयोग कर रहा हो, आपराधिक बल द्वारा या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा, आतंकित करना, अथवा”

दूसरा –“किसी विधि के, या किसी वैध आदेशिका के, निष्पादन का प्रतिरोध करना, अथवा”

तीसरा –“किसी रिष्टि या आपराधिक अतिचार या अन्य अपराध का करना, अथवा”

चौथा –“किसी व्यक्ति पर आपराधिक बल द्वारा या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा, किसी संपत्ति का कब्जा लेना या अभिप्राप्त करना या किसी व्यक्ति को किसी मार्ग के अधिकार के उपभोग से, या जल का उपभोग करने के अधिकार या अन्य अमूर्त अधिकार से जिसका वह कब्जा रखता हो, या उपभोग करता हो, वंचित करना या किसी अधिकार या अनुमित अधिकार को प्रवर्तित कराना, अथवा”

पाँचवा –“आपराधिक बल द्वारा या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा, किसी व्यक्ति को वह करने के लिए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से आबद्ध न हो या उसका लोप करने के लिए, जिसे करने का वह वैध रूप से हकदार हो, विवश करना।”

स्पष्टीकरण –“कोई जमाव, जो इकट्ठा होते समय विधिविरुद्ध नहीं था, बाद को विधिविरुद्ध जमाव हो सकेगा।”

ऊपर जो डेफिनेशन दी गयी है, वो कानूनी भाषा में दी गयी है, शायद इसको समझने में परेशानी आ रही होगी। इसलिए इसको मैं थोड़ा सिंपल भाषा का प्रयोग करके समझाने की कोशिश करता हूँ।

See also  IPC 321 in Hindi- आईपीसी धारा 321 क्या है?, सजा, जमानत और बचाव

IPC 141 in Hindi–

IPC Section 141 में “Unlawful Assembly” के बारे में बताया गया है। हम Unlawful Assembly की हिंदी में बात करें तो इसको बोल सकते हैं गैर कानूनी, गैर कानूनी जमावड़ा मतलब गैरकानूनी लोगों का समूह। लेकिन इसमें कंडीशन दी गई है, कि उस ग्रुप में कम से कम पांच लोग होने चाहिए। उस समूह में कम से कम पांच लोग होंगे तभी उसको Assembly माना जाएगा। अब आप सोच रहे होंगे की उनको Unlawful Assembly कब माना जायेगा? उनको Unlawful Assembly तब माना जायेगा जब उन लोगो का जो common object है, जो उनकी इंटेंशन कह लीजिए वो उप्पर जो पांच पॉइंट दिए गए हैं, अगर इन पांच पॉइंट से मिलता जुलता उनका common object है। तब उसको गैरकानूनी जमावड़ा कहा जाएगा, गैरकानूनी लोगों का समूह कहा जाएगा तब उनको Unlawful Assembly माना जाएगा।

अगर मान लीजिए आठ दस लोग एक साथ खड़े हैं, तो उसको गैरकानूनी नहीं कह सकते। हम उसको सिर्फ Assembly कहेंगे Unlawful Assembly नहीं कहेंगे। क्योंकि हर Assembly Unlawful नहीं होती है। Unlawful कब वन जाती है? जब उनका जो main common object है, वह कुछ गलत होता है, और वह गलत पॉइंट्स इसमें स्पेसिफिक तरीके से डिफाइन भी किए गए हैं। वह पॉइंट मैं आपको सरल भाषा में समझाने की कोशिश करता हूँ।

IPC 141 को कब और किन-किन अपराध में लगाया जाता है?

धारा 141 में पांच पॉइंट दिए गए है, की Unlawful Assembly कब माना जायेगा। मेरा प्रयास सभी पॉइंट को सरल तरीके से समझाने का रहेगा।

  1. पहला – पांच या पांच से ज़्यादा लोगों का समूह अगर वह स्टेट सरकार से या सेंट्रल गवर्नमेंट से किसी भी तरीके से लड़ाई करता है, बिना किसी मतलब के तब उसको Unlawful Assembly माना जाएगा।
  2. दूसरा – किसी सरकारी आर्डर को लागू ना होने देना, उसको execute ना होने देना, या कोई लीगल प्रोसेस में बाधा उत्पन्न करना तब भी उस समूह को Unlawful Assembly माना जाएगा।
  3. तीसरा – अगर पांच या पांच से ज़्यादा लोगों का समूह किसी के घर में जबरदस्ती अपराध करने के लिए घुसता है, तो उसको भी Unlawful Assembly माना जाएगा।
  4. चौथा – गलत तरीके से किसी की प्रॉपर्टी पर कब्ज़ा कर लेना, किसी दूसरे की प्रॉपर्टी का गलत तरीके से possession ले लेना। उसको भी Unlawful Assembly माना जाएगा।
  5. पाँचवा – आपराधिक बल से (criminal force use) करके किसी को कोई काम करने के लिए मजबूर करना जिसके लिए वह बाउंड नहीं है या फिर किसी को कोई ऐसा काम करने के लिए मजबूर करना जिसके लिए वो बाउंड है, लेकिन उसको वो काम ना करने देना। जैसे पुलिस अफसर होते हैं। उनकी बहुत सारी duties होती हैं। बहुत सारे काम को करने के लिए वो बाउंड होते हैं। अगर पांच या पांच से ज़्यादा लोगों का समूह उनको काम करने से रोकता है, जिस काम करने के लिए वो बाउंड है। तब भी उसको Unlawful Assembly माना जाएगा। जबरदस्ती उनसे कोई ऐसा काम करवाता है, जिसके लिए वो बाउंड नहीं है, तब भी उसको Unlawful Assembly माना जाएगा।
See also  IPC 360 in Hindi- भारत में से व्यपहरण की धारा 360- सजा, जमानत

अगर पांच या पांच से ज़्यादा लोग समूह बनाकर खड़े हैं, तब उसको Unlawful नहीं माना जाएगा लेकिन अगर वह इन पांच पॉइंट में से कोई Act करते हैं, तब उसको Unlawful Assembly  बोला जाएगा। गैरकानूनी जामबड़ा बोला जाएगा।

मैंने भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 141 (IPC 141 in Hindi) को सिंपल तरीके से समझाने की कोशिश की है। मेरी ये ही कोशिश है, की जो पुलिस की तैयारी या लॉ के स्टूडेंट है, उनको IPC की जानकारी होनी बहुत जरुरी है। ओर आम आदमी को भी कानून की जानकारी होना बहुत जरुरी है।

Rate this post
Share on:

Leave a comment