आईपीसी धारा 15 क्या है? । IPC Section 15 in Hindi । उदाहरण के साथ

आज मैं आपके लिए भारतीय दंड संहिता (IPC Section 15 in Hindi) की धारा 15 की जानकारी लेकर आया हूँ पिछली पोस्ट में हमने आपको आईपीसी (IPC) की धारा 14 क्या है? इनके बारे में बताया था। आशा करता हूँ की  आपको समझ में आया होगा।  अब बात करते है, भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 15 क्या होती है? 

IPC Section 15 in Hindi
IPC Section 15 in Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 15 क्या होती है?

“ विधि अनुकूलन आदेश, 1937 द्वारा निरसित। ”

“ According to Section 15 – Definition of British India. ”


Also Read –IPC Section 13 in Hindi


ऊपर जो IPC Section 15 की डेफिनेशन दी गयी है, वो कानूनी भाषा में दी गयी है, शायद इसको समझने में परेशानी आ रही होगी। इसलिए इसको मैं थोड़ा सिंपल भाषा का प्रयोग करके समझाने की कोशिश करता हूँ। IPC Section 15 को सरल शब्दों में समझाता हूँ Indian Penal Code का जो section 15 है, इसमें यह बताया गया है, कि IPC Section 15 जो कि Year 1937 से Related है। यह धारा किसी भी काम की नहीं है। क्योंकि IPC Section 15 को Adaptation of Law Order 1937 के तहत खत्म कर दिया गया था। IPC की यह धारा सिर्फ एक Number के अलावा अब कुछ भी नहीं रह गई है। इस Section को खत्म करने का मुख्य कारण ये था की ये आईपीसी की धारा 15 अंग्रेजी शासन वाले भारत को परिभाषित करती थी। इसलिए इस धारा को खत्म कर दिया गया। IPC को 1862 में लागू किया गया था। ब्रिटिश काल में भारत में पहला कानून IPC 1860 में अपना रूप लेकर अस्तित्व में आया था। जैसे 1860 में Indian Penal Code के रूप में लागू कर दिया गया था। लेकिन Time ओर ज़रूरत के हिसाब से IPC में संशोधन किए जाते हैं।

मैंने भारतीय दंड संहिता IPC Section 15 को सिंपल तरीके से समझाने की कोशिश की है। मेरी ये ही कोशिश है, की जो पुलिस की तैयारी या लॉ के स्टूडेंट है, उनको IPC की जानकारी होनी बहुत जरुरी है। ओर आम आदमी को भी कानून की जानकारी होना बहुत जरुरी है। 

See also  आईपीसी धारा 55 क्या है? । IPC Section 55 in Hindi । उदाहरण के साथ
1.9/5 - (9 votes)
Share on:

Leave a comment