आईपीसी धारा 5 क्या है? । IPC Section 5 in Hindi । उदाहरण के साथ

आज मैं आपके लिए भारतीय दंड संहिता (IPC Section 5 in Hindi) की धारा 5 की जानकारी लेकर आया हूँ पिछली पोस्ट में हमने आपको  आईपीसी (IPC) की धारा 4 क्या है? इनके बारे में बताया था। आशा करता हूँ की आपको समझ में आया होगा। अब बात करते है, भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 5 क्या होती है?

IPC Section 5 in Hindi
IPC Section 5 in Hindi

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 5 के अनुसार :-

“इस अधिनियम में की कोई बात भारत सरकार की सेवा के अधिकारियों, सैनिकों, नौसैनिकों या वायु सैनिकों द्वारा विद्रोह और परित्याग को दण्डित करने वाले किसी अधिनियम के उपबन्धों, या किसी विशेष या स्थानीय विधि के उपबन्धों, पर प्रभाव नहीं डालेगी”।

“Nothing in this Act shall affect the provisions of any Act for punishing mutiny and desertion of officers, soldiers, sailors or airmen in the service of the Government of India or the provisions of any special or local law.”


Also Read – IPC Section 2 in Hindi


आपने बहुत सी फिल्मो में या न्यूज़ में देखा होगा की कोई सैन्यकर्मी ने कोई अपराध या बेईमानी कर देता है तब उस पर मुकदमा आर्मी एक्ट (Army Act) के आधीन चलता है। उस सैन्यकर्मी को जो भी सजा या बरी आर्मी एक्ट (Army Act) के दुबारा ही दी जाती है। इसमें आईपीसी किसी भी तरह की दखलंदाजी नहीं कर सकती है। भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 5 ये ही कहती है।

आम भाषा में बात करे तो भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 5 एक ऐसा कानून है, जिसमे साफ़ साफ़ लिखा गया है , की आईपीसी (IPC) किसी भी तरह से आर्मी एक्ट में दखलअंदाजी नहीं कर सकती है। अगर कोई सैनिक या सेना से जुड़ा कर्मचारी या अधिकारी चाहे वो थल सेना , जल सेना या वायु सेना हो वो अपनी सेवा के दौरान ही सेना का साथ छोड़कर भाग जाता है, या फिर सेना से गद्दारी, बेईमानी करता है, तो उसके खिलाफ आईपीसी की कोई धारा लागू नहीं होगी। क्योंकि भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 5 ये ही कहती है। उस आर्मी पर्सन पर जो भी मामला दर्ज होगा वो आर्मी एक्ट (Army Act) के तहत होगा।

See also  IPC 508 in Hindi- आईपीसी धारा 508 क्या है?, सजा, जमानत और बचाव

Also Read – IPC Section 3 in Hindi


मेरी मंशा ये ही है , की सभी को कानून के बारे में अच्छे से जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि जब तक आपको कानून के बारे में जानकारी नहीं होगी तब तक आप अपने लीगल अधिकार के बारे में सही से नहीं जान पाएंगे। हमारे देश का कानून बहुत ही अच्छे तरीके से बनाया गया है। इसका आप बारीकी से अध्यन करोगे तब आपको पता चलेगा की कानून कितना सरल ओर सब को एक साथ लेकर चलने वाला है।

उत्तर:- भारतीय दंड संहिता (Indian Penal Code) आईपीसी में टोटल 511 धाराएं हैं।

उत्तर:- थॉमस बबिंगटन मैकाले

Conclusion

उम्मीद करता हूँ की कि उपरोक्त लेख से आपको पूरी जानकारी प्राप्त हुई होगी, अगर आप के मन में अब भी कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है। मुझे आंसर देने में ख़ुशी होगी।

5/5 - (1 vote)
Share on:

Leave a comment