IPC 81 in Hindi। धारा 81 क्या है?। सजा, जमानत, बचाव । उदाहरण के साथ

Rate this post

IPC 81 in Hindi

आज मैं आपके लिए IPC  81 in Hindi की जानकारी लेकर आया हूँ, पिछली पोस्ट में हमने  आपको आईपीसी (IPC) की काफी सारी धाराओं के बारे में बताया है। अगर आप उनको पढ़ना चाहते हो, तो आप पिछले पोस्ट पढ़ सकते है। अगर आपने वो पोस्ट पढ़ ली है तो, आशा करता हूँ की आपको वो सभी धाराएं समझ में आई होंगी । अब बात करते है, भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 81 क्या होती है?

IPC 81 in Hindi, IPC Section 81 in Hindi, आईपीसी धारा 81 क्या है?, धारा 81 क्या है?

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 81 क्या होती है?


IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 81 के अनुसार:-

कार्य, जिससे अपहानि कारित होना संभाव्य है, किंतु जो आपराधिक आशय के बिना और अन्य अपहानि के निवारण के लिए किया गया है :- “कोई बात केवल इस कारण अपराध नहीं है कि वह यह जानते हुए की गई है कि उससे अपहानि कारित होना संभाव्य है, यदि वह अपहानि कारित करने के किसी आपराधिक आशय के बिना और व्यक्ति या संपत्ति को अन्य अपहानि का निवारण या परिवर्जन करने के प्रयोजन से सद्भावपूर्वक की गई हो।”

स्पष्टीकरण
ऐसे मामले में यह तथ्य का प्रश्न है कि जिस अपहानि का निवारण या परिवर्जन किया जाना है क्या वह ऐसी प्रकृति की ओर इतनी आसन्न थी कि वह कार्य, जिससे यह जानते हुए कि उससे अपहानि कारित होना संभाव्य है, करने की जोखिम उठाना न्यायानुमत या माफी योग्य था।

दृष्टांत
(क) क, जो एक वाष्प जलयान का कप्तान है, अचानक और अपने किसी कसूर या उपेक्षा के बिना अपने आपको ऐसी स्थिति में पाता है कि यदि उसने जलयान का मार्ग नहीं बदला तो इससे पूर्व कि वह अपने जलयान को रोक सके यह बीस या तीस यात्रियों से भरी नाव ख को अनिवार्यतः टकराकर डुबो देगा, और कि अपना मार्ग बदलने से उसे केवल दो यात्रियों वाली नाव ग को डुबाने की जोखिम उठानी पड़ती है, जिसको वह संभवतः बचाकर निकल जाए। यहां, यदि क नाव ग को डुबाने के आशय के बिना और ख के यात्रियों के संकट का परिवर्जन करने के प्रयोजन से सद्भावपूर्वक अपना मार्ग बदल देता है तो यद्यपि वह नाव ग को ऐसे कार्य द्वारा टकराकर डुबो देता है, जिससे ऐसे परिणाम का उत्पन्न होना वह संभाव्य जानता था, तथापि तथ्यतः यह पाया जाता है कि वह संकट, जिसे परिवर्जित करने का उसका आशय था, ऐसा था जिससे नाव ग डुबाने की जोखिम उठाना माफी योग्य है, तो वह किसी अपराध का दोषी नहीं है।

(ख) क एक बड़े अग्निकांड के समय आग को फैलाने से रोकने के लिए गृहों को गिरा देता है । वह इस कार्य को मानव जीवन या संपत्ति को बचाने के आशय से सद्भावनापूर्वक करता है। यहां, यदि यह पाया जाता है कि निवारण की जाने वाली अपहानि इस प्रकृति की ओर इतनी आसन्न थी कि क का कार्य माफी योग्य है तो क उस अपराध का दोषी नहीं है।


As per section 81 of IPC (Indian Penal Code) :-

Act likely to cause harm, but done without criminal intent, and to prevent other harm :- “Nothing is an offence merely by reason of its being done with the knowledge that it is likely to cause harm, if it be done without any criminal intention to cause harm, and in good faith for the purpose of preventing or avoiding other harm to person or property.”

Explanation.
It is question of fact in such a case whether the harm to be prevented or avoided was of such a nature and so imminent as to justify or excuse the risk of doing the act with the knowledge that it was likely to cause harm.

Illustrations
(a) A, the captain of a steam vessel, suddenly and without any fault or negligence on his part, finds himself in such a position that, before he can stop his vessel, he must inevitably run down to boat B, with twenty or thirty passengers on board, unless he changes the course of his vessel, and that, by changing his course, he must incur risk of running down a boat C with only two passengers on board, which he may possibly clear. Here, if A alters his course without any intention to run down the boat C and in good faith for the purpose of avoiding the danger to the passengers in the boat B, he is not guilty of an offence, though he may run down the boat C by doing an act which he knew was likely to cause that effect, if it be found as a matter of fact that the danger which he intended to avoid was such as to excuse him in incurring the risk of running down the boat C.

(b) A, in a great fire, pulls down houses in order to prevent the conflagration from spreading. He does this with the intention in good faith of saving human life or property. Here, if it be found that the harm to be prevented was of such a nature and so immi­nent as to excuse A’s act. A is not guilty of the offence.


Also Read –IPC Section 80 in Hindi


IPC  81 in Hindi – आईपीसी धारा 81 क्या है?

ऊपर जो IPC Section 81 की डेफिनेशन दी गयी है, वो कानूनी भाषा में दी गयी है, शायद इसको समझने में परेशानी आ रही होगी। इसलिए इसको मैं थोड़ा सिंपल भाषा का प्रयोग करके समझाने की कोशिश करता हूँ। IPC Section 81 को सरल शब्दों में समझाता हूँ।

IPC  81 in Hindi:- में बताया गया है, की जब किसी व्यक्ति ने कोई भी अपराध किया है, या कोई भी ऐसा काम किया, जिससे उसको पूरा पता था, कि दूसरे आदमी का नुकसान होगा ही होगा। लेकिन फिर भी वो व्यक्ति उस काम को कर रहा है। जैसे मान के चलिए, किसी लड़की का बलात्कार हो रहा है आप वंहा से गुजर रहे है। वो लड़की आपसे मदद के लिए बोल रही है। आपने एक पत्थर देखा और उस व्यक्ति के मार दिया। और पत्थर मारने की वजह से उस व्यक्ति की मौत हो जाती है। तब आपको अपराधी नहीं माना जायेगा। हालांकि आपको prove करना पड़ेगा, की मेरे पास उस टाइम कोई और रास्ता नहीं था, उस टाइम लड़की की जान बचाने के लिए जो मुझे सही लगा वो मैंने कर दिया। इसको में उदारण देकर समझाता हूँ।

कप्तान एक बड़ा शिप लेकर जा रहा है। वो सामने देखता है, की सामने से दो शिप आ रही है। एक शिप में दो से चार लोग है, और दूसरी शिप में पंद्रह बीस लोग बैठे हैं। हालात ऐसे बन जाते है की, कप्तान के पास कोई चारा नहीं बचता है। अब शिप सामने वाले दोनों शिप में से किसी एक से टकराएगी ही। उसने पहली वाली शिप से टकराना उचित समझा। क्योंकि पहली वाली शिप में दो से चार लोग ही है, और दूसरी शिप में पंद्रह बीस लोग बैठे हैं। पहली वाली शिप से जैसे ही टक्कर होती है, उसमे बैठे आदमी मर जाते हैं। अब इसमें उसका कोई अपराध नहीं है, क्योंकि कप्तान के पास न तो समय था और ना ही कोई चारा रहा था। दो से चार लोगों की जान चली गई, लेकिन पंद्रह बीस लोगों की जान बच गयी। दूसरा उदारण और लेते है।

मान के चलिए, एक घर में आग लग गई और उसके साथ और भी काफी घर है, जो एक दूसरे से चिपके हुए है। अब किसी व्यक्ति ने आग लगे हुए घर को तोड़ डाला। जिससे कि आग दूसरे घरो में न फैले और दूसरे घरो के लोग ना मरे या दूसरे घरो को नुक्सान ना पहुंचे। वह इस कार्य को मानव जीवन या संपत्ति को बचाने के आशय से सद्भावनापूर्वक करता है। जैसे किसी बड़े नुकसान को, बड़ी दुर्घटना को बचाने के लिए अगर छोटा नुकसान होता है या फिर जानते हुए कोई भी ऐसा नुकसान किया जाए, अपराध किया जाए। उस अपराध के लिए आपको कोई सज़ा नहीं मिलेगी। IPC Section 81 आपकी पूरी सहायता करेगा।

उम्मीद करता हूं। आपको भारतीय दंड संहिता (Indian Penal Code) के Section 81 समझ में आ गयी होगी। मैंने इसको सिंपल शब्दों में समझाने की कोशिश की है, अगर फिर भी कोई Confusion रह गई है, तो आप कमेंट बॉक्स में क्वेश्चन कर सकते है। मुझे आंसर देने में अच्छा लगेगा।

निष्कर्ष:

मैंने IPC  81 in Hindi को सिंपल तरीके से समझाने की कोशिश की है। मेरी ये ही कोशिश है, की जो पुलिस की तैयारी या लॉ के स्टूडेंट है, उनको IPC की जानकारी होनी बहुत जरुरी है। ओर आम आदमी को भी कानून की जानकारी होना बहुत जरुरी है।

Also Read – IPC Section 7 in Hindi – धारा 7 क्या है?

Also Read – IPC Section 6 in Hindi – धारा 6 क्या है?

Also Read – IPC Section 5 in Hindi – धारा 5 क्या है ?

Also Read – IPC Section 4 in Hindi – धारा 4 क्या है ?

Also Read – IPC Section 3 in Hindi – धारा 3 क्या है ?

Also Read – IPC Section 2 in Hindi – धारा 2 क्या है ?

Also Read – IPC Section 1 in Hindi – धारा 1 क्या है ?

Also Read – How to Fight False IPC 406?

Also Read – 498a judgement in favour of husband

Also Read – Section 498A IPC in Hindi

Also Read – Domestic Violence in Hindi

Also Read – 406 IPC in hindi

Leave a Comment