भारतीय न्याय संहिता 92 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 92 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 92 in Hindi – BNS 92 in Hindi मृत शरीर के गुप्त व्ययन द्वारा जन्म छिपाना- जो कोई किसी शिशु के मृत शरीर को गुप्त रूप से गाड़कर या अन्यथा उसका व्ययन करके, चाहे ऐसे शिशु की मृत्यु उसके जन्म से पूर्व या पश्चात् या जन्म के दौरान में हुई हो, ऐसे … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 91 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 91 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 91 in Hindi – BNS 91 in Hindi शिशु के पिता या माता या उसकी देखरेख रखने वाले व्यक्ति द्वारा बारह वर्ष से कम आयु के शिशु का अरक्षित डाल दिया जाना और परित्याग- जो कोई बारह वर्ष से कम आयु के शिशु का पिता या माता होते हुए, या ऐसे शिशु … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 90 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 90 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 90 in Hindi – BNS 90 in Hindi ऐसे कार्य द्वारा जो आपराधिक मानव वध की कोटि में आता है, किसी सजीव अजात शिशु की मृत्यु कारित करना- जो कोई ऐसा कोई कार्य ऐसी परिस्थितियों में करेगा कि यदि वह तददुबरा मृत्यु कारित कर देता, तो वह आपराधिक मानव वध का दोषी … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 89 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 89 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 89 in Hindi – BNS 89 in Hindi शिशु का जीवित पैदा होना रोकने या जन्म के पश्चात् उसकी मृत्यु कारित करने के आशय से किया गया कार्य- जो कोई किसी शिशु के जन्म से पूर्व कोई कार्य इस आशय से करेगा कि उस शिशु का जीवित पैदा होना तद्द्वारा रोका जाए … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 88 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 88 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 88 in Hindi – BNS 88 in Hindi गर्भपात कारित करने के आशय से किए गए कार्यो द्वारा कारित मृत्यु – (1) जो कोई गर्भवती स्त्री का गर्भपात कारित करने के आशय से कोई ऐसा कार्य करेगा, जिससे स्त्री की मृत्यु कारित हो जाए, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 87 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 87 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 87 in Hindi – BNS 87 in Hindi स्त्री सम्मति के बिना गर्भपात कारित करना- जो कोई उस स्त्री की सम्मति के बिना, चाहे वह स्त्री स्पन्दनगर्भा हो या नहीं, पूर्ववर्ती धारा 86 में परिभाषित अपराध करेगा, वह आजीवन कारावास से, या दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 86 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 86 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 86 in Hindi – BNS 86 in Hindi गर्भपात कारित करना – जो कोई गर्भवती स्त्री का स्वेच्छया गर्भपात कारित करेगा, यदि ऐसा गर्भपात उस स्त्री का जीवन बचाने के प्रयोजन से सदभावपूर्वक, कारित न किया जाए, तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 85 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 85 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 85 in Hindi – BNS 85 in Hindi विवाह आदि के करने को विवश करने के लिए किसी स्त्री को व्यपड़त करना, अपहत करना या उत्प्रेरित करना- जो कोई किसी स्त्री का व्यपहरण या अपहरण उसकी इच्छा के विरुद्ध किसी व्यक्ति से विवाह करने के लिए उस स्त्री को विवश करने के … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 84 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 84 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 84 in Hindi – BNS 84 in Hindi किसी स्त्री के पति या पति के नातेदार द्वारा उसके प्रति क्रूरता करना- जो कोई, किसी स्त्री का पति या पति का नातेदार होते हुए, ऐसी स्त्री के प्रति क्रूरता करेगा, वह कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया … अधिक पढ़े…

भारतीय न्याय संहिता 83 क्या है? – Bharatiya Nyaya Sanhita 83 in Hindi & English

Bharatiya Nyaya Sanhita 83 in Hindi – BNS 83 in Hindi विवाहित स्त्री को आपराधिक आशय से फुसलाकर ले जाना, या ले जाना या निरुद्ध रखना- जो कोई किसी स्त्री को, जो किसी अन्य पुरुष की पत्नी है, और जिसका अन्य पुरुष की पत्नी होना वह जानता है, या विश्वास करने का कारण रखता है, … अधिक पढ़े…