IPC 427 in Hindi- धारा 427 कब लगती है? सजा, जमानत और बचाव

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम IPC 427 in Hindi के बारे में बताने जा रहे है। जिसका यूज़ आज के टाइम में बहुत होता है। परन्तु हमारे देश के बहुत से लोग इस धारा से बाकिव नहीं है। जब आप इस आर्टिकल को आखिर तक पढोगे और इस धारा के बारे में जानेंगे तो आप लोग भी हैरान हो जाओगे। क्योंकि इस धारा में जो बताया गया है, वो आपके साथ भी काफी बार हो चूका होगा। लेकिन आप इस चीज़ से अनजान होने के कारण दोषी व्यक्ति के खिलाफ एक्शन नहीं ले पाए होंगे।

IPC 427 in Hindi– यह धारा कब लगती है? 

IPC Section 427 punishment bail in Hindi
IPC 427 in Hindi

IPC 427 में रिष्टि (mischief) के बारे में बताया गया है। कभी न कभी आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा की आपका कोई दोस्त या पड़ोसी जानबूझकर आपका गलत तरीके से नुकसान कर देता है या कोशिश करता है, और वो नुकसान पचास रुपये या उससे अधिक का हो तो ये एक अपराध की श्रेणी में आता है। इसको हम शुद्ध हिंदी में कुचेष्टा भी बोल सकते है। इस धारा के बारे में हम और विस्तार से बात करेंगे ताकि आपको और अच्छे से समझ में आये तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

IPC 427 में बताया गया है, कि अगर कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति का जानबूझकर गलत तरीके से नुकसान कर देता है, या कोशिश करता है। और उस नुकसान की कीमत पचास रुपये या उससे अधिक है, तो उस व्यक्ति पर इस धारा के तहत कानून लागू हो सकता है। ये एक कानूनी अपराध है। ऎसे में पुलिस उस व्यक्ति पर इस धारा के तहत मुकदमा दर्ज करती है, और आगे की करवाई शुरू करती है। अब हम आपको इस धारा का एक उदहारण देते है, जिससे आपके जो भी डाउट है वो क्लियर हो जायेंगे।

रिष्टि (mischief) का उदाहरण-

अंश और रोहित दोनों आपस में अच्छे दोस्त थे। एक दिन दोनों में किसी बात को लेकर बहस हो गयी तभी अंश ने रोहित का जबरदस्ती मोबाइल छीन लिया और उसको फेक दिया। तब रोहित ने वो फ़ोन उठाया तो देखा वो फ़ोन टूट गया है। रोहित ने अंश से वो मोबाइल ठीक कराने को कहा लेकिन अंश ने मना कर दिया।

See also  IPC 301 in Hindi- गलत व्यक्ति की हत्या करने की धारा 301 सजा, जमानत और बचाव

फिर रोहित अपने नजदीकी पुलिस थाने गया और अंश के खिलाफ एक एप्लीकेशन देकर आया। फिर पुलिस उस एप्लीकेशन को इस धारा के तहत शिकायत दर्ज (Complaint Register) करती है। और आगे की करवाई शरू करती है। आगे इस आर्टिकल में हम इस अपराध में कितनी सजा मिलती है, उसके बारे में जानेंगे।

रिष्टि (mischief) के अपराध में सजा-

अगर धारा 427 के अंतर्गत आरोपी पर लगाए गए आरोप कोर्ट (Court) में सिद्ध हो जाते है, तो रिष्टि (mischief) के अपराध करनें के जुर्म में कोर्ट आरोपी व्यक्ति को 2 वर्ष तक की सजा या जुर्माना या फिर दोनों से भी दंडित कर सकती है।

अपराधसजासंज्ञेयजमानतविचारणीय
रिष्टि जिससे पचास रुपये का नुकसान होता है।2 वर्ष का कारावास या आर्थिक दंड या दोनों हो सकते है।यह एक गैर-संज्ञेय अपराध है।यह एक जमानती अपराध है।किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा।

रिष्टि (mischief) के अपराध में जमानत–

भारतीय दंड संहिता की धारा 427 का अपराध एक जमानतीय अपराध (Bailable Crime) है। जिसमे आरोपी व्यक्ति को जमानत पुलिस थाने में मिल जाती है।

यह एक गैर-संज्ञीय (Non Cognizable) Offense है।

यह एक समझौता वादी अपराध है। इसमें समझौता किया जा सकता। कुछ अपराध ऐसे होते हैं, जिनमें समझौता नहीं किया जा सकता है। लेकिन यह समझौता करने योग्य है।

शिकायत दर्ज कराने के प्रक्रिया क्या है?

  1. आरोप पत्र (शिकायत): आपको एक एप्लीकेशन लिखनी होगी और उस एप्लीकेशन में सारी बाते दिनाक, समय और जगह के साथ घटना का पूरा वाक्य लिखना होगा।
  2. थाना (पुलिस स्टेशन) में प्रस्तुत करना: एप्लीकेशन लिखने के बाद उस एप्लीकेशन को अपने नजदीकी थाने (पुलिस स्टेशन) में जमा करना होता है।
  3. जांच: थाने के अधिकारी उस घटना की जांच करते हैं, साक्ष्यों को प्रमाणित करते हैं। पुलिस दोनों पार्टियों के बीच समझौता कराने की कोशिश भी करती है। अगर आरोपी व्यक्ति नुकसान की भरपाई कर देता है, तो आगे की जांच बंद कर दी जाती है, और नुकसान की भरपाई वादी को दे दी जाती है। अगर दोनों पार्टी में से कोई एक भी समझौते के लिए तैयार नहीं होता है, तो पुलिस अपनी आगे की करवाई करेगी और आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र (Charge sheet) कोर्ट में दायर करेगी। फिर मामला कोर्ट में चला जाता है।
  4. कानूनी कार्रवाई: अगर कोर्ट में आरोप सिद्ध हो जाते है, तो आरोपी व्यक्ति को कोर्ट सजा या जुर्माने या फिर दोनों से दण्डित कर सकती है। ये कोर्ट के विवेक पर डिपेंड करता है।
See also  IPC 151 in Hindi- धारा 151 कब लगती है? सजा, जमानत और बचाव

इसमें अपना बचाव कैसे करे?

इसमें अपना बचाव करने के लिए, मैं आपको कुछ पॉइंट बता रहा हूँ।

  • किसी भी व्यक्ति को किसी अन्य व्यक्ति की कोई भी क़ीमती वस्तु को जबरदस्ती लेकर उसका नुकसान नहीं करना चाहिए। और दूसरे को भी ऐसा करने से रोकना चाहिए।
  • आपको अपने व्यवहार में सावधानी बरतनी चाहिए ताकि किसी भी तरह की गलत स्थिति में न पड़ें। आपको लोगों के साथ उचित तरीके से व्यवहार करना चाहिए और किसी के साथ भी विवाद नहीं करना चाहिए।
  • अगर आप पर किसी ने झुठी शिकयत दर्ज करा दी है। तो आप पुलिस के समक्ष अपनी बात को रखे और जो आपके पास सबूत है वो अधिकारी के सामने पेश करे। अगर आप सही है तो आपको जरा भी डरने और घवराने की जरूरत नहीं है।
  • नोट: अपने आप को बचाने के लिए कोर्ट में झूठा गवाह या सबूत पेश न करें। नहीं तो आप और ज्यादा फस सकते है।
  • मेरी पर्सनल सोच ये है की अगर आप पर इस धारा में मामला दर्ज हो गया है तो आपको समझौते के आधार पर फैसला कर लेना चाहिए।

FAQs:-

उत्तर:- आईपीसी की धारा 427 एक कानूनी धारा है जो संपत्ति को बिना अनुमति के नुकसान पहुँचाने को अपराध मानती है।

उत्तर:- धारा 427 के तहत किसी ने बिना अनुमति किसी संपत्ति या सामग्री को नुकसान पहुँचाया है, तो वह इस धारा के तहत अपराधी माना जा सकता है।

उत्तर:- धारा 427 के उल्लंघन की जांच पुलिस द्वारा की जाती है। आरोपी के खिलाफ शिकायत करने के बाद, पुलिस जांच करेगी और उपयुक्त कदम उठाएगी।

उत्तर:- हां, धारा 427 के तहत किसी को सजा होने पर आमतौर पर जमानत मिल सकती है, लेकिन यह कानूनी प्रक्रिया के परिणाम पर निर्भर करेगी।

उत्तर:- हां, आप धारा 427 के तहत अपराधी के खिलाफ कानूनी कदम उठा सकते हैं। यदि आपको ऐसा लगता है कि किसी ने बिना अनुमति नुकसान पहुँचाया है, तो पुलिस से संपर्क करें और कानूनी प्रक्रिया का पालन करें।

आप में से कुछ ऎसे पाठक है, जिनको रिष्टि के बारे में आज पहेली बार पता चला होगा। मैंने आपको उप्पर ही बताया था की आज का आर्टिकल ऐसी IPC पर होगा जिसके बारे में बहुत कम लोगो ने सुना होगा। आप लोगो ने इस पोस्ट मे IPC 427 in Hindi के बारे मे पुरी जानकारी जानी है। यह जानकारी आप को कैसी लगी हमे कमेंट मे जरूर बताये।

आप लोग इस आर्टिकल को courtjudgement.in पर पढ़ रहे है। हमने आप के लिए और भी बहुत सी आईपीसी धारा के बारे मे आर्टिकल लिखे हुए है। आप उन आर्टिकल को भी जरूर पढ़े और इस आर्टिकल को पुरा पढ़ने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद !!!!

5/5 - (1 vote)
Share on:

Leave a comment