Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya

Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya- दोस्तों, आजकल एक केस बहुत ही ट्रेंड में चल रहा है। हर न्यूज़ चैनल पर आपको आलोक मौर्या और ज्योति मौर्या की न्यूज़ मिलेगी। आज हम Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya के टॉपिक पर बात करने वाले है और साथ में जानेंगे की आलोक मौर्या और ज्योति मौर्या वाले केस में क्या होगा? दोस्तों मैं आज के इस टॉपिक पर आलोक मौर्या या ज्योति मौर्या में किसी का भी पक्ष नहीं ले रहा लेकिन मेरे कुछ पॉइंट है, जो ज्योति मौर्या vs आलोक मौर्या के दहेज केस को False केस मानने की और इशारा कर रहे है। दोस्तों, केस तो लम्बा चलेगा उस पर हमारा न्यालय क्या जजमेंट देता है, ये तो बाद में पता चलेगा। लेकिन आज कल 498a का इतना दुरपयोग हो रहा है। ये बात सुप्रीम कोर्ट भी काफी बार मान चुका है।

Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya
Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya

Dowry Case Alok Maurya Jyoti Maurya

आलोक एक D ग्रुप की नौकरी करता है। और नौकरी करते करते उसने अपना घर भी चलाया, अपनी पत्नी को लिखाया, पढ़ाया, मेहनत कराई और वह SDM बन गई। SDM बनने के बाद उसने अपने पति के ऊपर दहेज का केस लगवा दिया, और दहेज का केस भी तब लगवाया जब उसको पता चल गया कि मेरी पोल खुल चुकी है। मेरे पति को पता चल गया कि मेरा अफेयर किसी और के साथ चल रहा है। और फिर देहज का केस लगवा दिया। कोई इनसे प्रूफ नहीं मांगता? पति ने मेरे से देहज मांगा है और सामने वाला लिख भी लेता है, पुलिस भी लिख लेती है, मजिस्ट्रेट भी लिख लेती है। और कोई सबूत नहीं मांगते, ऐसा क्यों भाई? वो ऐसा इसलिए है, क्योंकि शादीशुदा लड़कियों के लिए दहेज का केस एक ब्रह्मास्त्र है। ब्रह्मास्त्र इसलिए है, क्योंकि यह मामला लड़कियों को साबित नहीं करना पड़ता है।

See also  Rent Agreement in Hindi - किराया समझौता: नियम और शर्तें

दोस्तों, आपने सुना होगा कि जो किसी के ऊपर इलज़ाम लगाया उसी को साबित करना पड़ता है। तूने मेरे ऊपर इलज़ाम लगाया था तो साबित कर लेकिन यहां पर उल्टा है। यहां पर लड़की ने इलज़ाम लगाया कि इसने मेरे से दहेज़ मांगा है। अब उसको साबित वही करेगा जिसके ऊपर दहेज का केस लगा है। यानी कि पति और उसके ससुराल वालों के ऊपर साबित करने का भार है। यह बात कानून के अंदर लिख रखी है, कि जिसके ऊपर दहेज का केस लगेगा, उसी को साबित करना पड़ेगा। इसीलिए शादीशुदा लड़कियों के लिए 498a ब्रह्मास्त्र है। उनको सिर्फ आगे शिकायत देनी है, कि मेरे से दहेज़ मांगा है। दहेज़ में क्या मांगा है कोई proof नहीं। अब यह बात लड़के वालों को साबित करनी है। लड़का साबित नहीं कर पाया तो यही माना जाएगा उसी ने दहेज मांगा है।

अब ज्योति मौर्या ने बताया कि मेरे पति मेरे से दहेज में फॉर्चूनर गाड़ी मांगे हैं। अरे भाई बारह साल हो गए शादी को आज तक कोई गाड़ी क्यों नहीं मांगी? और आप SDM 2015 में वन गई थी। तो इतने टाइम से फॉर्चूनर गाड़ी क्यों नहीं मांगी और चलो मान के चलते हैं, किसी हस्बैंड ने अगर इच्छा व्यक्त कर भी दी नोर्मली मान के चलते, आपने हिंसा व्यक्त कर दी कि आप एक बड़ी पोस्ट पर जा चुकी हो और एक अच्छी अधिकारी वन चुकी हो तो क्यों ना हम एक लक्ज़री गाड़ी ले लेते हैं। इच्छा व्यक्त कर दी तो क्या पत्नियां इच्छा व्यक्त नहीं करती? कि सोहन अब तुम बड़ी पोस्ट पर जा चुके हो तो अब मैं डेढ़ सौ, दो सौ वाले सूट नहीं पहनूंगी। अब मैं दो हज़ार वाले सूट पहनूंगी। इच्छा व्यक्त कौन नहीं करता? बच्चे नहीं करते क्या? ज्योति मौर्या से दहेज की मांग की गयी है या नहीं वो बहुत आगे सिद्ध होगा।

See also  साइबर क्राइम क्या है? (Cyber Crime Kya Hai)- साइबर क्राइम से खुद को कैसे बचाएं?

बहुत सारे आलोक मौर्या आज से पहले झूठे मुकदमें में सजा भी काट रहे हैं, और आज भी ऐसे लोग है, जिनको जमानत नहीं मिल रही आज भी वो लोग जेल के अंदर बंद है। और आने वाले टाइम में ऐसे ऐसे लोग बहुत आऐंगे जिनके उप्पर दहेज के झूठे केस लगेंगे। जब तक यह 498a सेक्शन है तब तक इसका कोई सलूशन नहीं है। क्योंकि यह क्या कहता है, कि लड़के वालों को साबित करना है। इसके अंदर एक बात और लिख दो अगर लड़की भी डिमांड करती है, तब उनके उप्पर भी 498a लगना चाहिए।

Alok Maurya or Jyoti Maurya Wale Case me Kya Hoga?

आलोक मौर्या और ज्योति मौर्या वाले केस में आलोक मौर्या को केस जितने के लिए बहुत कठनाई का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि दहेज के केस में पति को साबित करना है, अगर पति साबित नहीं कर पाए तो पति केस हार जायेगा और उसको जेल में जाना भी पड़ सकता है। अगर आलोक मौर्या कल को तलाक के लिए फाइल लगाता है, तो तलाक भी आलोक मौर्या को साबित करना पड़ेगा कि मेरी वाइफ का चक्कर किसी और के साथ में चल रहा है। अगर आलोक मौर्या यह साबित कर देता है, तो तलाक हो जाएगा। लेकिन ज्योति मौर्या पहले से ये ही चाहती है, कि हमारा तलाक हो जाए। अगर तलाक नहीं हुआ यानी कि आलोक मौर्या साबित नहीं कर पाया तो मनीष दुबे इस आलोक मौर्या के ऊपर फिर मानहानि का केस बना देगा। यानी कि अगर आलोक मौर्या से तलाक साबित नहीं हुआ, अफेयर साबित नहीं हुआ, तब उसके ऊपर मानहानि का केस जरूर लग जाएगा। ऐसे कानून जो लड़कों के लिए थोड़े खतरनाक है, लेकिन लड़कियों के लिए ब्रह्मास्त्र है। और इस कानून का लड़कियां बहुत मिसयूज करती है। मैं यह नहीं कहता कि सभी केस झूठे है।

See also  शपथपत्र क्या होता है? (Affidavit Kya Hota Hai)- ये कितने प्रकार के होते हैं?

निष्कर्ष:

दोस्तों, अगर आप भी इसके शिकार हो चुके हो या आपको लगता है मैं भी शिकार होने वाला हूँ और आप इस चीज़ को बचाना चाहते हो तो 498a में संसोधन होना चाहिए। इसके अंदर भी चेंजिंग हो जाए तो बहुत सारे लोग झूठे दहेज के केस से बच जाएंगे।

Rate this post
Share on:

Leave a comment