कोर्ट का नोटिस आने में कितना समय लगता है?

कोर्ट का नोटिस आने में कितना समय लगता है?

कोर्ट का नोटिस आने में कितना समय लगता है? सबसे पहले हमे नोटिस के बारे में जान लेना चाहिए की नोटिस क्या होता है। जब किसी भी पर्सन (इसमें कोई भी हो सकता है जैसे महिला ,पुरुष , लड़का या लड़की कोई भी) के ऊपर कोर्ट में वाद दाखिल होता है , तो कोर्ट के … अधिक पढ़े…

Family Court Summons in Hindi- जाने सिंपल भाषा में

Family Court Summons in Hindi

फैमिली कोर्ट समन (Family Court Summons in Hindi) के बारे में जानने से पहले आपको फैमिली कोर्ट के बारे में जानना जरुरी है। मैं इस आर्टिकल में काफी कुछ बताने की कोशिश करूँगा, आशा करता हु की आप ये आर्टिकल पूरा पढ़ने की कोशिश करोगे क्योंकि अधूरा ज्ञान बहुत ही घातक होता है, तो शुरू … अधिक पढ़े…

तलाक 2024 – आपसी सहमति या एकतरफा तलाक कैसे ले? उदहारण के साथ

divorce in hindi

शादी के बंधन को तोड़ना या विवाह-विच्छेद को तलाक (Divorce in Hindi) कहते है। हमारे देश में तलाक लेना आसान नहीं है, हमारे देश में शादी को एक बहुत ही पवित्र बंधन माना जाता है, इस बंधन को तोड़ना बहुत ही कठिन है। अगर पति या पत्नी में से कोई एक साथी तलाक नहीं चाहता … अधिक पढ़े…

376 IPC Judgement in Hindi

376 ipc in hindi

1- पुलिस महिला थाना, जिला बिजनौर द्वारा आरोप पत्र अभियुक्त उदयराज के विरुद्द अन्तर्गत धारा- 323, 376, 506  भारतीय दण्ड संहिता व धारा- 3/4 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 विचारण हेतु न्यायालय में प्रेषित किया गया, जिस पर प्रसंज्ञान लिया गया। 2- प्रस्तुत प्रकरण में अभियुक्त पर अपनी पत्नी वादिनी मुकदमा के … अधिक पढ़े…

302 IPC Judgement in Hindi

302 ipc judgement in hindi

302 IPC Judgement in Hindi थाना नजीबाबाद जिला बिजनौर की पुलिस द्वारा मुकदमा अपराध संख्या 417/2015 में धारा 302, 34 भा0दं0सं0 (302 IPC) के अन्तर्गत अभियुक्तगण आसिफ उर्फ बिटटन तथा सिकन्दर के विरूद्ध आरोप-पत्र प्रदर्श क-13 न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, बिजनौर में प्रेषित किया गया। उक्त न्यायालय द्वारा दिनांक 14-01-2016 को प्रस्तुत मामले का संज्ञान … अधिक पढ़े…

Suman vs tarun Domestic Violence Judgement

Domestic Violence

प्रार्थिया श्रीमती सुमन बाला की ओर से विरूद्ध विपक्षी अंतर्गत धारा-१२ घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण दिलाये जाने हेतु तथा भरण-पोषण के सम्बन्ध में अनुतोष प्राप्त करने हेतु यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक इस प्रकार है कि प्रार्थिया का विवाह विपक्षी के साथ दिनांक … अधिक पढ़े…

Chama Rani vs sanjeev Domestic Violence Judgement

Domestic Violence

प्रार्थिया श्रीमती क्षमा रानी की ओर से विरूद्ध विपक्षीगण अंतर्गत धारा-१२ घरेलू हिंसा (Domestic Violence Act 2005) से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण दिलाये जाने हेतु तथा भरण-पोषण के सम्बन्ध में अनुतोष प्राप्त करने हेतु यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक इस प्रकार है कि प्रार्थिया की शादी … अधिक पढ़े…

Kavita vs Gourav Domestic Violence Judgement

Domestic Violence

प्रार्थिया श्रीमती कविता की ओर से विरूद्ध विपक्षीगण अंतर्गत धारा-12 घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत, धारा 18 के अधीन संरक्षण आदेश, धारा-19 के अधीन निवास हेतु आदेश, धारा-20 के अधीन आर्थिक अनुतोष तथा धारा-22 के अधीन प्रतिकर दिलाये जाने हेतु, यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक … अधिक पढ़े…

State of UP vs Irfan 498a Judgement

498a judgement

अभियुक्त इरफान उर्फ कल्लन के विरूद्ध मुकदमा अपराध संख्या- ९५/२०११ धारा-४९८ए,३२३,५०४,५०६ भा०दं०्सं० व ३/४ दहेज प्रतिषेध अधिनियम थाना गलशहीद जिला मुरादाबाद की पुलिस द्वारा विचारण हेतु आरोप पत्र प्रेषित किया गया है। वादिनी द्वारा पुलिस उप महानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुरादाबाद को तहरीर इस कथन के साथ दर्ज करायी गयी है कि:- प्रार्थीनी का निकाह २८ … अधिक पढ़े…

State of UP vs Mahendra 498a Judgement

498a judgement

अभियुक्तगण महेन्द्र, हरिओम, विजेन्द्र, नत्था सिह, श्रीमती शान्ति, कु0 रेखा व श्रीमती गीता का परीक्षण पुलिस थाना महिला द्वारा प्रेषित आरोप-पत्र अन्तर्गत धारा 498ए, 323, 504 भा0द0स0 व धारा 3/4 दहेज प्रति0 अधिनियम के आधार पर इस न्यायालय द्वारा किया गया । संक्षेप में अभियोजन कथानक इस प्रकार है कि अभियोगी हरप्रसाद के प्रार्थना-पत्र अन्तर्गत … अधिक पढ़े…