State of UP vs Ramchandra 498a Judgement

498a judgement

पुलिस थाना बिलारी, जनपद मुरादाबाद द्वारा अभियुक्तगण रामचन्द्र, जावित्री, एवं कल्लू पुत्र होरीलाल के विरूद्ध मुकदमा अपराध सं०-२४२/२०१०, धारा-४९८ए, ३२३, ५०४, ५०६,भा.द.सं में आरोप पत्र न्यायालय में प्रेषित किये जाने पर यह वाद दर्ज रजिस्टर किया गया। संक्षेप में अभियोजन कथानक इस प्रकार है कि वादिनी मुकदमा श्रीमती ऊषा पत्नी रामचन्दर पुत्री स्वर्गीय मान सिंह … अधिक पढ़े…

Neeru vs Vinay 498a Judgement

498a judgement

प्रस्तुत परिवाद परिवादिनी श्रीमती नीरू ने अभियुक्तगण विनय त्यागी, अमर सिंह त्यागी, अजय त्यागी, इन्दू त्यागी, राकेश त्यागी तथा पूनम त्यागी के विरूद्ध प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में परिवादपत्र के कथानक इस प्रकार है कि परिवादिनी का विवाह दिनांक 11-2-2005 को विपक्षी विनय त्यागी के साथ हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार मय दान दहेज … अधिक पढ़े…

Swati vs Sushobit Domestic Violence Judgement

Domestic Violence

प्रार्थिया श्रीमती स्वाती की ओर से विरूद्ध विपक्षीगण अंतर्गत धारा-12 घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण दिलाये जाने हेतु तथा भरण-पोषण के सम्बन्ध में अनुतोष प्राप्त करने हेतु यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक इस प्रकार है कि प्रार्थिया का विवाह विपक्षी संख्या-1 के साथ दिनांक … अधिक पढ़े…

Suman vs Ashok Domestic Violence Judgement

Domestic Violence

प्रार्थिया श्रीमती सुमन व उसकी अवयस्क पुत्री कु० ध्रुवी व कु० दृष्टि की ओर से विरूद्ध विपक्षीगण अंतर्गत धारा-१२ घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण दिलाये जाने हेतु तथा भरण-पोषण के सम्बन्ध में अनुतोष प्राप्त करने हेतु यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक इस प्रकार है … अधिक पढ़े…

State of UP vs satish 406 IPC Judgement

406ipc Judgement

पुलिस थाना सिहानीगेट जिला गाजियाबाद द्वारा मुगअ०्सं० ९२२/२००६ में प्रेषित आरोप पत्र अन्तर्गत धारा-४०६,५०४,५०६ भा०द०सं० व धारा-३/४/५ दहेज प्रतिषेध अधिनियम के आधार पर अभियुक्तगण सतीश पार्चा, आशीष व श्रीमती सावित्री का विचारण इस न्यायालय द्वारा किया गया। संक्षेप में मामले के तथ्य इस प्रकार है कि वादी मुकदमा सी.पी.सिंह द्वारा एक लिखित तहरीर दिनांकित ३०.१०.२००६ … अधिक पढ़े…

Preeti vs Ashok 406 ipc Judgement

406ipc Judgement

परिवादिनी श्रीमति प्रीति शोधा द्वारा प्रस्तुत परिवाद पर अभियुक्तमण अशोक कुमार , श्रीमती विमला व नरेन्द्र कुमार का विचारण धारा- 406 भा0 दं0 सं० के आरोप में किया गया। संक्षेप में प्रकरण के तथ्य इस प्रकार है कि परिवादिया श्रीमती प्रीति शोधा द्वारा एक परिवाद इस आशय का प्रस्तुत किया गया कि उसकी शादी दिनांक … अधिक पढ़े…

Domestic Violence Judgement in Favour of Husband

How can a domestic violence case be dismissed? घरेलू हिंसा के मामले को कैसे खारिज किया जा सकता है?

Domestic Violence Judgement in Favour of Husband प्रार्थिया शिखा त्यागी की ओर से विरूद्ध विपक्षीगण अंतर्गत धारा-12 घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षण दिलाये जाने हेतु तथा भरण-पोषण के सम्बन्ध में अनुतोष प्राप्त करने हेतु यह प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किया गया है। संक्षेप में प्रार्थना-पत्र का कथानक इस प्रकार है कि प्रार्थिया … अधिक पढ़े…

State of UP vs Neeraj 498a Judgement

498a judgement

१- थाना महिला थाना जनपद गाजियाबाद की पुलिस द्वारा अभियुक्तगण नीरज शर्मा,सुनीता शर्मा व विजय कुमार के विरूध धारा 498a, 323, 506 भा०दं०सं० एवं 3/4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम का आरोप पत्र, परीक्षण हेतु प्रेषित किया गया है। २- संक्षेप में अभियोजन कथानक इस प्रकार है कि वादिनी निहारिका डोगरा पुत्री दिनेश चन्द्र डोगरा द्वारा दिनांक … अधिक पढ़े…

State of UP vs Satpal 498a Judgement

498a judgement

अभियुक्तगण सतपाल, श्रीमती ब्रिजेश व सुशील के विरूद्ध थाना मुरादनगर जिला गाजियाबाद की पुलिस द्वारा अन्तर्गत धारा ४९८ए,३२३,५०४,५०६ भा०दं०सं० व ३/४ दहेज प्रतिषेद्ध अधिनियम के अन्तर्गत आरोप पत्र न्यायालय में विचारण हेतु प्रेषित किया गया है, जिसके आधार पर उपरोक्त अभियुक्तगण का विचारण इस न्यायालय द्वारा किया गया। संक्षेप में अभियोजन कथानक इस प्रकार है … अधिक पढ़े…

State of UP vs Radhe 498a Judgement

498a judgement

यह विचारण थाना हीमपुर जिला बिजनौर के विवेचक द्वारा अभियुक्तगण के विरूद्ध अन्तर्गत धारा 498a, 323, 504, 506, 147 भा0दं0सं0 व धारा 3/4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम के अधीन आरोप पत्र प्रेषित करने पर प्रारम्भ हुआ। संक्षेप में अभियोजन कथन इस प्रकार से है कि वादनी श्रीमती पुष्पा की शादी करीब तीन साल पहले राधे पुत्र … अधिक पढ़े…